What Is Depression? How To Get Out On Your Own! Spiritual And Ayurvedic solutions

Depression ……. know this word depression now a days, it is heard from many people. Deep…. ress …..ion in it’s itself hidden answer is there means take a deep…….rest. A person suffering from depression need a deep rest as well as mental peace, physically relaxation and emotionally he is already disturbed but why? Because he is tired or bored with whatever role he was playing in life till now. Because what he did not want or what he did not like, he has been doing the same role or you can also say work of course why not? till today and living this double diplomatic boring life. Now he is so frustrated by all of this than only a person comes at such a turning point means end of all he feels and he depressed himself.😓

But now there’s time comes to change your inner soul and now totally person want inner peace. You have to change your character for challenges and start a new life journey. Time to accept yourself and accept the truth of the situation. The heart and mind already have decided to take a deep rest. After a rest a new “me” will rise with a new soul. A emptiness and hollowness can end and get ready to face the world with that new self. But how ?let us see and talk about all these things carefully and what important steps we can take with easily.

Depression vs Stress 😬

How to judge by self analysis that” I am going in depression”

Are you unable to forget some incident or event that happened in the past?

Have you kept those old things in your mind? Still your mind is fullfilled with all negative held in your past life and not able to forget?

In your heart in your mind, all those incidents and things keep revolving in the form of thoughts?

Anyways whatever may just first of all try this very useful formula was forgive and forget.

Stop thinking and self talking in negative ways. Be positive see in all positively and think also in positive ways only.

Depression and stress is two different side of one coin see how?

Depressed person nature unfortunately become negative where all is happening so because of this mind automatically reached to that sick state and in spiritual terms your Sahatrar Chakra or crown Chakra has been blocked.

The direct effect of Chakra blockage can be clearly visible on your body as well.

The mental state can also be disturbed and the mind will also not be able to remain stable anywhere the meaning of this is to say that due to excessive thoughts.

Some disease develops in the body because the person himself is responsible for this state.

Due to depression a person can become a victim of depression due to being depressed and disappointed for any reason in life.

At the same time due to the overflow of depressed thoughts moving in the mind the rhythm of breathing also of a person also gets disturbed.

Due to the blackness of thoughts prevailing over the mind, how many times a person is breathing in through the nostrils and how many times he is exhaling.

He does not have any senses. Depressed person does not remain in the state of exhaling only by taking as much breath in the body and for this reason he starts getting sick.

Along with fatigue, depressed mood, irritability, high BP, heart related diseases can also come under the grip of diseases.

Due to depression stress the mental state also starts to stagger and he starts living quietly at the far end of loneliness.

The more you stay in negative thoughts the more negative energy accumulates in your aura the chakras also get blocked.

How to come out by self treatment from depression

Accepting whatever the reality of life is and trying to forget what happened is the only way to save oneself from depression through self love or faith in oneself and be confident strong.

Expect only that which you yourself can easily do and try to do that thing only and push yourself which is out of your capabilities just leave and move further in life. Try to neglect .

For example you love someone from the bottom of your heart. But someone who comes into your life and spends time with you with love for a few days suddenly changes and leaves you what will you do? Beg or die no no no but why?

Or will you ruin yourself by going into depression by totrue yourself? It is better whatever the situation is just accept it and move forward in life, maybe you can find a better partner he is waiting for you and if you are stuck here then what is the better option forget it and move on.

Because whatever happens that was only past and now not in our hand is nothing. In our hand is to move further and be happy always 😊 to change past is not in our hand but how to change future is now in our hand.

Depression Medications

How to get rid of depression?

Reasons of going in depression

Due to hormonal imbalance which is often seen in women at the time of menopause .

Then depression is also a genetic disease which can be seen from generation to generation.

Due to failure in job, Due to business or deception from any relative and lover, a person gets shattered and shattered.

Let us discuss then know how we can get out of depression on our own.

  1. First of all, if you feel that you are living sad and you like to be alone or do not even feel like meeting anyone to talk to. If you feel that you are reaching a state of depression, then feel free to take the support of your nearest relative or your close trustworthy friend.

Openly discuss your problem with them and urge them for help. Your well-wishers will definitely help you and can also get you free from trouble.


2. Walk on the spiritual path and do meditation everyday.

There may be difficulty in concentrating in the beginning and due to lack of stability of mind, but by trying regularly, you can be successful. I have other blogs on how to do meditation.

  1. Yagya therapy

Yagya medical science has also proved that the power which is in the subtle body of man is not even in the gross body. If used on the subtle body, its effect can be visible on the gross body immediately.

Medicines lit by fire can show their effect immediately by reaching the lungs directly by inhalation.

I do not mean to say that you should stop your medicine and doctor medicine and keep on doing Havan,। yes it is necessary that the depressed person can get peace of mind and relaxation from Havan.

You can also do a small Havan everyday in the evening for yourself peaceful and peace of mind. A cow dung cake is to be taken and a copper plate can be taken by keeping the cow dung stick in it and to perform the havan. The Havan material includes Harad, black cardamom one for a time, Bhimsen camphor, two-flowered clove for one time,। a small piece of Mulhati, apamarga and a black dry grape. (Kaali kismiss)

By lighting candles, slowly one by one dedicate one thing to the fire whatever your beloved deity with his chanting of mantras.

As soon as it comes in contact with fire, all the matter becomes microscopic and spreads in the whole environment and also affects people with its properties.

The medicinal effect is visible on the gross and subtle body of the individual. If done with the spirit of true heart, faith, dedication then its effect can be seen.

  1. Ayurvedic Remedies

Please note I am definitely telling ayurvedic medicine for depression here but without the contact of your doctor no medicine should be taken it can be taken only on the advice of the doctor.

Stress com (Dabur) one capsule twice a day

DABUR Stresscom अश्वगंधा 12 स्ट्रिप X 10 कैप्सूल https://www.amazon.in/dp/B073WFCBF5/ref=cm_sw_r_apan_i_AKJH9FC2MNRJRTKM2CGF

Memorin capsule one capsule twice a day https://www.1mg.com/otc/memorin-capsule-otc371242

Siledin tabs (Alarsin) one tablet twice a day https://www.amazon.in/dp/B08KL2SQ79/ref=cm_sw_r_apan_i_1KF1YK38PWP08ZH9T7AV

Brentex capsule (Anuja) one capsule twice a day

BRENTREX® Capsules

Breathing techniques

In this first of all sit with a straight back and cradle the legs and sit relaxed if you want you can also apply relaxation music which will be found quite a lot on youtube.

Close the eyes and close one nostril with one thumb inhale through the other nostril and exhale from it and the speed of your breathing should neither be slow nor fast. Similarly do it with the other nostril.

Crystal remedy

Calligraphy stone

You yourself do not know when you have been disappointed with life and which path will be good for you to follow in life and there is darkness all around.

If you have been very disappointed, then this crystal can prove to be useful for you. May this crystal fill your life with light by guiding you.

The positivity of this crystal can fill your life with lots of happiness. Especially when you are alone in depression.

As your connection to it will increase while using it, you can feel yourself positive and energetic. You can get freedom forever from the stress that you feel on your mind due to depression.

10mm chrysoberyl cat’s eye bracelet It has amazing healing powers, it helps in removing physical weakness which occurs due to depression and depression. It also helps in balancing the mental state and has to be worn in the wrists of the hands, then its energy continues to be released in the body.

Conclusion

A person who has gone into depression can come out with his own ability and understanding.

If he goes to forget what happened by strengthening his thinking and self-confidence. It is our mind and it also has some emotions, but time and the stumbling block of the world can hurt the feelings of a person.

Yes for some time our self-confidence can be unstable but why give the remote of our life in the hands of others.

If we others give sorrow we are sad, if others give happy but why? We are not puppets anyone gave anything then also we should neither happy nor sad brother stay balanced.

आप सबसे ज्यादा खुद से झूठ बोलते हैं नहीं है यकीन पढ़ लिजिए/जानिए वाणी सिद्धि की प्राप्ति कैसे हो सकती हैं?

हम आजकल रोज की दिनचर्या में सहजता से कई बार झूठ कह देते हैं दूसरो से क्या हम खुदसे ही। यह हमारी आदत सी हो गई और हम भी इस आदत के आदि हो चुके हैं। दोस्तों आपको पता है कि इसका सबसे भारी नुकसान किसे झेलना पड़ता है झूठ बोलनेवाले को। खुदसे रोज कई वादे करते हैं और तोड़ भी देते हैं। अध्यात्मिक दृष्टि से देखा जाए तो झूठ आपके चक्र भी block कर सकता है और यहां तक कि financial भी down 👎 हो सकते हो। पर कई लोगों को यकीन नहीं हो रहा होगा financial block कैसे? झूठ का संबंध हमारे बोलने से यानी की मुख से यानी throat chakra या विशुद्घि चक्र और throat chakra Root chakra से direct connected है। Root chakra हमारा financial growth के लिए हैं। अब भी कई लोग झूठ की नाव में बैठकर दुनिया की जंग जीत गए होंगे और जीत भी रहे हैं आगे भी जीतेंगे पर कब तक? एक ना एक दिन झूठ को सच पछाड़ कर मार गिराएगा ही और हर बुराई का अंत बुरा ही होगा।

झूठ और सच

आपसे एक बात सच कहूं आप के मुख से निकला हुआ हर शब्द एक मंत्र है और उससे पहले आप जो भी सोचते है या जो भी विचार आपके अंतर्मन में विद्यमान होते रहते हैं। ये सारे शब्द ब्रह्मांड में एक हकीकत एक सच्चाई का रूप धारण कर लेते है और यही शब्द और आपके अंतर्मन के विचार ऊपर ब्रह्मांड में विचरण कर आपके लिए एक आवरण सा तैयार करते हैं।

ये आवरण ही आपके जीवन में होने वाली अच्छी और बुरी घटनाए हैं। तो अब आप ही सोचिए जो भी आपके जीवन में होता है उसका जिम्मेदार कौन? इसकी शुरुआत हुई कहा से? इसलिए कहते है की आप दूसरों से भी और उससे ज्यादा हम खुदसे ही ज्यादा बातें करते हैं।

कई बार चलो मान लिया मजबूरी थी दूसरों से झूठ बोलना हमारी कोई मजबूरी रही होगी पर हम तो झूठ खुदसे से रोज हर वक्त कई बार कहते है और हमेशा कर देते है

let go

क्योंकि हमे रोज आदत हो चुकी हैं खुदसे झूठ कहने की। खुदको झूठी तसल्ली देने और खुदसे झूठे वायदे करने और ना जानें क्या क्या? तो दोस्तों जैसे हमारे शब्द चाहे हमारे अंदर बने या बाहर या चाहे वो सच हैं या झूठ और आपने उसे दिखावा के लिए कहे ये सब बातें universe के लिए कोई मायने नहीं रखती।

आपके मूंह से निकला और वह universe मे छप गया और वह होकर ही रहता।

अरे जनाब आप तो क्या क्या कहकर भूल जाते हो पर universe में सब recorded है सब आपकी बातें और बाद मे आप स्वयं ही confused 🤔 रहते अरे मैं इतनी मेहनत कर रहा हूं सफल क्यों नहीं हो रहा वगेरह वगेरह बहुत कुछ। तो घूम फिर कर सारी बातें आपकी ही आप पर ही लागू होती है। ना खुदसे झूठ बोले और जो कहते हैं करे भी या नही कर सकते है तो कहे भी नहीं मन ही मन में भी नही so please

झूठ असत्य

दोस्तो आप मेरी बात मानो या ना मानो पर ये बात उतनी ही सच हैं जितनी दुनिया मे चांद सूरज।

नहीं नहीं मैं किसी पर कोई blame नहीं लगा रही हूं सच कह रही हूं देखिए आप मेरी बात ध्यान से समझने की कोशिश करे कैसे?

Universe मे सबसे पहले आपके शब्द यानि कि आपके विचार ही जाते है action तो आप बाद में करते हैं। पर आपने अलग विचार बनाए और action अलग किए तो universe मे आपके शब्द है वह अपने पूर्णतः अपनी शक्ती खो देते है। हकीकत में जब आप को कुछ सफलताएं हासिल करने का वक्त आता है तो ब्रह्मांड में आपके झूठ शब्द विचरण कर रहे होते वह ही अवरोधक का कार्य करते और आपकी मेहनत भी विफल हो सकती हैं।

यह पतंजलि का दूसरा नियम है यम झूठ नहीं कहना कभी भी, असत्य ना कहना। पतंजलि मे यहीं कहा गया है कि आप जो कहते हो वहीं करिए और जो नहीं करना चाहते ना वह कहे ना भीतर मन और ना ही बाहर किसी और से।

यदि आपने इस तरह से खुदसे से तालमेल बैठा लिया तो आप शक्ती को बलवान और मजबूत कर रहे हो वहीं अपने शब्दो का उपयोग और चयन सावधानी से किए और अपने कहे अनुसार ही कार्य करते है तो आपको वाक सिद्धि की प्राप्ति हो सकती हैं। पतंजलि कहते है यदि आप ने इस गुण मे महारत हासिल कर ली तो वास्तविकता में आपके हर शब्द मे सत्य घटित होने की शक्ती उत्पन्न हो जायेगी और वह सत्य होकर रहता है।

हर शब्द मे वास्तविकता पैदा करने की शक्ती होती हैं यहां तक कि ब्रह्मांड को आपके शब्दों के साथ संरेखित करने के लिए खुदको पुनर्व्यवस्थित करना होगा। संतो द्वारा किए गए चमत्कारो के पीछे यहीं रहस्य छुपा है। जब वे किसी को ठीक करते है और उनके कहने में शब्दो में इतनी सत्यता और पवित्रता होती हैं कि वे लोगों के जीवन को ही बदल कर रख देते है।

जब आप जीवन में सत्यता को स्थापित करते है तो ब्रह्मांड की शक्ती भी ऐसे संतो का हमेशा साथ देती हैं और आपके हर शब्दो को मंत्र में परिवर्तित कर देती है। आपसे कहा गया हर शब्द मंत्र बनकर सत्यता मे परिवर्तित होने की अनुभूति होती हुई दिखाई देगी फिर आप समझ पाओगे कि आज तक आपने कितनी मूल्यवान वस्तु की कद्र नहीं की।

झूठ झूठ को छोड़कर वाकसिद्धि की प्राप्ति

चलिए आईए अब तो जो हुआ सो हुआ अब आपको इस चक्रव्यूह से कैसे निकले वह भी उपाय बताती हूं बस आपको simple सी practice करनी है रोज झूठ नहीं कहना है किसी से भी पर कैसे संभव?

शुरुआत मे इस गुण के अभ्यास करें शब्दो माप तौल कर ही कहे और हर शब्द का इस्तेमाल होशपूर्वक करे । मान लीजिए आप किसी से कहते है कि मैं पांच मिनट में पहुंच रहा हूं तो पांच मिनट में ही पहुंचिए यदि नहीं पहुंचोगे तो सत्य कहे जो भी हो इसी प्रकार रोज की दिनचर्या में practice से सत्य ही आपका हथियार बन जायेगा जीवन जीने का और आपको वाक सिद्धि की प्राप्ति होकर रहेगी।

Conclusion

दोस्तों मेने वाकसिद्धि कैसे प्राप्त करें वह बताया है जो कि मेरा खुदका अनुभव है और यह सत्य मे होता है आप भी आजमा कर देख लीजिए इस कलयुग में यह होना बिलकुल संभव है।

Depression से अपने दम पर कैसे निकले बाहर, जानिए ऐसी टिप्स जो हर कोई नही जानता With Ayurvedic And Spiritual Solution

Depression यह शब्द आजकल ना जानें कितने ही लोगों के जुबान से सुनने को मिलता है। Deep………..…..res……….……sion देखिए इसी शब्द मे ही छीपा है इसका अर्थ यानी deep rest की जरूरत है जो भी इस बीमारी का शिकार है । मानसिक शांति, शारीरिक रूप से भी और भावनात्मक तरीके से तो वह desturb हैं ही पर क्यू? क्योंकि वह जिन्दगी में अब तक जो भी role play कर रहा था उससे वह थक चुका है यहां तक कि ऊब चुका है। क्युकी वह जो नहीं चाहता था या जो पसंद नहीं है वहीं आज तक करते आया है और इसी दोहरी जिन्दगी जीते जीते इनसान एक ऐसे मोड़ पर आ जाता है

खुदका किरदार बदलने का समय आ चुका है खुदको स्वीकारने एवम हालात का सच को स्वीकार का समय । एक गहन विश्राम को लेने की स्वीकृति दिल और दिमाग़ ने निर्णय ले चुके है। एक विश्राम के बाद एक नया “मैं ” का उदय होगा एक नए सवेरे के साथ। एक खालीपन और खोखलापन समाप्त हो सकता हैं और उस आपके नए मैं के साथ दुनियां का मुकाबला करने के लिए तैयार हो जाइए। पर कैसे इन सब बातों को गौर से देखते हैं और बाते करते हैं।

Depression तनाव

क्या आप अतीत में हुई कुछ वाक्या या कोई घटना घटित हुई उसे भूल नहीं पा रहें हो? क्या आप ने पुरानी उन बातो को दिमाग में पकड़ रखा है? आपके दिल में दिमाग में लगातार वे सब घटना और बाते विचारो के रुप मे घूमते रहते है?

यहीं सब आपके साथ हो रहा है तो इससे आपका मन वह रुग्ण अवस्था में पहुंच चुका है और अध्यात्मिक दृष्टि में आपका सहत्रार चक्र या crown Chakra block हो चुका है। Chakra blockage का सीधा असर आपके शरीर पर भी स्पष्ट दिखाई दे सकता है। मानसिक अवस्था भी desturb हो सकती है और मन भी कहीं स्थायी रुप में स्थिर नहीं रह पा रहा होगा कहने का तात्पर्य यही है कि अत्यधिक विचारो के कारण शरीर में कोई न कोई बीमारी पनपती ही है क्योंकि व्यक्ति खुद ही उसकी इस अवस्था के लिए जिम्मेदार हो सकता हैं। Depress होने के कारण जीवन से किसी भी कारण से उदास और निराश होने के कारण व्यक्ति depression का शिकार हो सकता हैं।

साथ ही depress व्यक्ति विचारो की उमड़ घुमड़ दिमाग में चलने के कारण इंसान का सांसों का rhythm भी बिगड़ जाता हैं। विचारो की कालिमा मन मस्तिष्क पर छाई रहने के कारण व्यक्ति नासिका से कितनी बार सांस अंदर ले रहा है और कितने बार बाहर छोड़ रहा है उसे होश ही नहीं रहता। Depress person केवल सांस जितनी शरीर में लेकर बाहर छोडने की अवस्था में नहीं रहता और यही कारण से वह रोगग्रस्त होने लगता हैं। थकान, उदास मन, चिड़चिड़ाहट के साथ high BP , heart related disease जैसे बीमारियों की चपेट मे भी आ सकता हैं। Depression तनाव से मानसिक अवस्था भी डगमगाने लगती हैं और उसे अकेलापन सबसे दूर चुपचाप सा रहने लगता हैं। जितने आप नकारात्मक सोच विचार मे रहते उतनी ही नकारात्मक ऊर्जा आपके aura मे एकत्र होने के कारण चक्र भी block होने लगते है।

Depression से कैसे बाहर निकलने की कोशिश करे

जीवन की जो भी वास्तविकता है उसे स्वीकारना और जो हुआ उसे भूलने की कोशिश से ही व्यक्ति और खुद्से ही आत्म प्रेम या विश्वास द्वारा ही खुदको अवसाद ग्रस्त होने से बचाता जा सकता हैं। खुदसे वही अपेक्षा रखे जो आप खुद आसानी से कर सकते हो और जो नहीं कर पा रहें या कर नहि सकते उस के खुदपर दबाव डालना यानी जबरदस्ती करना ही है। जैसे for example आप किसी से दिल की गहराई से प्रेम करते हैं पर कोई जो आपके जीवन में आकर कुछ दिनों तक प्रेम से आपके साथ समय बिताकर अचानक बदल जाता हैं और आपको छोड़ जाय तो क्या करोंगे ? क्या उसके हाथ पैर जोड़िए या भिक मांगे?

या खुदको totrure कर कर के depression में जाकर खुदको बर्बाद करोंगे? इससे बेहतर है जो भी situation हैं Just accept it और life मे आगे बढ़ा जाय हो सकता हैं इससे भी अच्छा partner मिल जाय वह आपका इंतज़ार कर रहा है और यहीं पर फसे हो तो क्या better option हैं जो हो उसे भुला दिया जाय और आगे बढ़ा जाय क्योंकि जो होना था हो चुका उसे बदला नहीं जा सकता और जो बदला जा सकता हैं वह हमारे हाथो में हैं।

कही आप ये तो नहीं ?😯😮😌

Depression को कैसे दूर करें

Depression में जानें के कारण क्या हैं?

किसी पुरानी बीमारी के कारण भी या

हार्मोनल inbalance के कारण जो अक्सर महिलाओं राजोनिवृक्ति के समय देखा जाता हैं या

फिर depression एक अनुवांशिक रोग भी है जो पीढी दर पीढी देखा जा सकता हैं

नौकरी , व्यवसाय में नाकामयाबी या किसी रिशतेदार और प्रेमी से धोखा से भी व्यक्ति टूट कर बिखर जाता हैं।

आइए फिर जानते है depresion से कैसे खुद के दम पर निकला जा सकता हैं

  1. सबसे पहले यदि आपको लग रहा है कि आप उदास रह रहे हो और आपको अकेले रहने ही अच्छा लगता या किसी से भी मिलने बात करने मिलने का भी मन नहीं करता। आपको लग रहा आप अवसाद की स्थिति में पहुंच रहे हैं तो बेहिचक आपका नजदीकी विश्वास पात्र का सहारा लिजिए। उनसे खुलकर अपनी problem discuss करिए और उनसे मदद के लिए आग्रह करे। आपका हितैषी विश्वास पात्र जरुर आपकी मदद करेंगे और आपको मुसीबत से मुक्ति भी दिलवा सकते हैं।
  2. अध्यात्मिक रास्ते पर चलिए रोज meditation करिए । शुरू में ध्यान लगाने में दिक्कत हो सकती हैं और मन स्थिरता नहीं होने के कारण पर नियमपूर्वक आप कोशिश करके देखिए सफल हो सकते है। Meditation कैसे करें मेरे दूसरे blogs हैं वह पढ़कर भी जान सकते हैं।

3. यज्ञ चिकित्सा

यज्ञ चिकित्सा विज्ञान ने भी साबित कर दिया है कि मनुष्य के सुक्ष्म शरीर में जो शक्ती है वह स्थूल शरीर में भी नही। यदि सूक्ष्म शरीर पर प्रयोग किया जाय तो तुरंत ही इसका प्रभाव स्थूल शरीर पर दिखाई पड़ सकता हैं। अग्नि द्वारा जलाई गई औषधि श्वास द्वारा सीधी फेफड़ों में पहुंचकर तत्काल अपना प्रभाव दिखा सकती हैं। मेरा कहने का तात्पर्य यह कदापि नहीं कि आप आपकी दवाई और डॉक्टर चिकित्सा बंद कर दें और हवन करते रहे हां ये जरुर हैं कि हवन से depress व्यक्ति को मन को शांति जरुर मिल सकती है।

एक छोटा सा हवन भी आप रोज शामको खुद कर सकते हो खुदकी peaceful और मन की शांति के लिए। एक गोबर का कंडा लेना है और एक तांबे की प्लेट ले सकते है गोबर का कंडा उसमे रखकर हवन करने के लिए। हवन सामग्री मे हरड़, काली बड़ी इलाइची एक समय के लिए एक, भीमसेन कपूर , दो फूल वाली लौंग एक समय के लिए, मुलहटी का एक छोटा टुकड़ा, अपामार्ग और एक काली मुनक्का ।

कंडे जलाकर धीरे धीरे एक एक चीज अग्नि को समर्पित करते जाइए जो भी आपके आराध्य देव उनके मंत्र उच्चारण के साथ। अग्नि के संपर्क मे आते ही सारे द्रव्य वह सूक्ष्मीभूत होकर पूरे वातावरण में फ़ैल जाते है और अपने गुण से लोगों को प्रभावित भी करते है। औषधीय प्रभाव व्यक्ति स्थूल और सूक्ष्म शरीर पर दिखाई देता है। सच्चे दिल विश्वास समर्पण के भावना से किया गया तो इसका प्रभाव देखा जा सकता है।

4. Ayurvedic Remedies

Please note मैं यहां depression की ayurvedic medicine जरुर बता रहीं हूं पर बिना अपने डॉक्टर के संपर्क के कोई भी दवाई न ली जाय डॉक्टर के परामर्श पर ही ली जा सकती हैं।

Stress com (Dabur) one capsule twice a day

Drakshojem (DAP) 15ml twice a day

Siledin tabs (Alarsin) one tablet twice a day

Memorin capsule one capsule twice a day

5. Breathing technique

अंत में एक breathing technique बता रहीं इससे आपकी सूर्य स्वर और चंद्र स्वर सामान्य रह सकता हैं क्योंकि अत्यधिक विचारो के कारण हमारा breathing rhythm बिगड़ हो गया होता है।

इसमें सबसे पहले सीधी पीठ करके पैरो को पालती मारकर relax होकर बैठिए चाहो तो relaxation music भी लगा सकते है जो कि youtube पर काफी मिल जाएंगे। आंखे बंद करिए और एक अंगूठे से एक nostril बंद कर दूसरे nostril से सांस लिजिए और उसी से छोड़िए और आपके सांस लेने की गति ना धीमी हो और ना तेज। इसी प्रकार दूसरे nostril से करिए।

Crystal

Calligraphy stone

जब आप जीवन से निराश हो चुके हो और जीवन में किस राह पर चलने से आपका भला होगा ये आपको खुद पता नहीं है और चारो तरफ अंधकार है। आप बुरी तरह हताश निराश हो चुके हो तो यह crystal आपके लिए उपयोगी साबित हो सकता हैं। ये crystal आपके जीवन को उजालों से भर सकता हैं आपका मार्गदर्शन करके। ये crystal की positivity आपके जीवन को ढेर सारी खुशियां भर सकती है। खासकर जब आप depression में अकेले हो। जैसे जैसे इसका उपयोग करते हुए इसका आपका connection बढ़ता जाएगा आप खुद ही positive और energetic feel कर सकते है। Depression तनाव के कारण जो आपको मन मस्तिष्क पर दबाव महसूस करते है उससे हमेशा के लिए आजादी मिल सकती हैं।

10mm chrysoberyl cat’s eye bracelet इसमें गजब की healing powers है ये शारीरिक कमजोरी को दूर करने में मदद करता है जो कि उदास और depression मे जानें के कारण होती है। मानसिक अवस्था को भी संतुलित करने में मदद करता है और हाथो की कलाई में पहने रखना होता है तो इसकी उर्जा निरंतर शरीर में स्त्रावित होती रहती हैं।

Conclusion

Depression में गया व्यक्ति खुदकी योग्यता और समझदारी से निकल सकता हैं। यदि वह अपनी सोच और आत्मबल को मजबूत कर जो हुआ उसे भूलने जाय तो। ये हमारा मन हैं और इसे भी कुछ emotions है पर समय और दुनिया की ठोकर इनसान के भावनाओं को ठेस पहुंचा सकती है। हा माना कुछ समय के लिए हमारा आत्मबल अस्थिर हो सकता हैं पर दूसरे के हाथ मे अपने जीवन का remote क्यों दे। दूसरा दुःख दे तो हम दुखी दूसरा खुशी दे तो हम खुश ना भाई ना ऐसा ना करो कोई कुछ भी दे खुश रहिए और balanced रहिए।

हरे कृष्ण राधे कृष्ण🙏🙏🙏

ॐ नमः शिवाय,🙏🙏🙏🙏

Mood ko Kaise Theek Kare In Hindi With Emotional And Spiritual Solution मूड को फ्रेश और ठीक करने के तरीके उपाय

Mood swing होना मतलब हमारे दिल और दिमाग की आपस मे लड़ाई क्योंकि दोनो ही विपरित दिशा में चल रहे होते। दिल जो कहता वह दिमाग मानने को तैयार नहीं होता और दिमाग जो advice दे रहा है उसे दिल को स्वीकार नहीं कर पाता। अंदर ही अंदर लंबा dicussion चल रहा है पर कोई निर्णय पर ही नहीं पहुंच पाते। Mood swing की शुरुआत बाहरी किसी के आक्रमण के कारण शुरू हुआ रहता और वह आक्रमण दिल और दिमाग दोनो ही झेल ही नहीं पाते या तो सहिष्णुता की कमी है या हम किसी की बातो को और situation को ignore नहीं कर पाते। दिल और दिमाग़ मे वह सब अपने अंदर उतार लेते हैं और आंतरिक युद्ध हमारे भीतर शुरू हों जाता हमे खुद पता नहीं चल पाता तो आईए खुदको कैसे balance करके जिए वह जानने की कोशिश करेंगे।

मूड स्विंग डिसऑर्डर

अपनी इच्छानुसार कार्य नहीं होता तो भी मूड खराब हो जाता हैं या आप चाहते वैसे ही सामने वाले कोई आपका सुनकर नहीं करते तो भी मूड खराब हो जाता हैं इसका मतलब यहीं है कि कहीं ना कहीं स्वाभाव में जिद्दी पन जो आपको ही नर्वस करती है । समय के साथ बदलाव और हालात से समझौता ये आपको सोच की कशमकश में नहीं डालेंगी और मूड भी आपका खराब या स्विंग होने से बच सकता हैं।

मूड स्विंग होना भी एक नकारात्मक उर्जा ही है या ऐसे लोगों को nature एकदम से ही change हो जाता हैं व्यक्ति एकदम से निराश, उदास और चुप होकर अपनेआप एक जगह सिमट कर बैठ जानें से और भी मूड में sadness आ जाती हैं। फिर तो इसमें से निकलना और मुश्किल, कितना समय तक खुदको ही उलजलूल विचारो की कलकोठरी में कैद रहेंगे वह तो रेहनवाले को ही पता हो सकता है।

नकारात्मकता मूडी इंसान के स्वाभाव में आ जानें से उसमे दूसरो पर विश्वास करने की भावना और क्षमता दोनो को ही खत्म कर देता फिर दूसरा चाहे जितना भी positively behaviour करे मूडी व्यक्ति को उसमे भी कमियां और स्वार्थ ही नजर आएगी। क्योंकि सोच ही वैसे होगी तो जैसी नजर होगी वैसे ही नजारा दिखाई देगा।

अनहोनी घटनाओं पर और कुदरत के फैसलों पर किसी भी मनुष्य का कोई वश नहीं ये सब तो हमें हमारे कर्म अनुसार भोगना ही पड़ता हैं क्योंकि इसमें कुदरत ने हमें कोई option नहीं दिया है। या तो इसे अपने आप की मन: स्थिति को balance रखकर उस situation को face कर सकते है जिससे वह दुःख और पीड़ा का अनुभव भी कम होगा या फिर दूसरा option उस दुःख को और बढ़ाकर क्योंकि ये मूडी लोग छोटी सी पीढ़ा को भी इतना बढ़ा चढ़ा कर दिखावा करते जैसे इन के जैसा कोई दुखी है ही नहीं। अब choice आपकी है मूड स्विंग करते हुए रोते रहे या सामान्य से होकर उस वक्त की पीड़ा को काटकर समय निकाल ले।

मूड कंट्रोल कैसे करें?

Spiritual and emotional solutions

आपको जब भी लग रहा है आपका मूड स्विंग हो रहा है कोई घटना या किसी के कुछ कहने मन दुःखी होने की स्थिति में पहुंचे उससे पहले वहा से कहीं पर भी निकल जाएं या अपना मन को कहीं ऐसे जगह स्थापित करने की कोशिश कर सकते है जो आपको बहुत पसंद हैं आपको उस कार्य को करते हुए बहुत सुकून महसूस करते है जैसे कही घूमना, मनपसंद game या मूवी देखना ।

Relaxing music सुनिए जिससे आपका मन शान्त और माइंड रिलैक्स साथ मे आपको अच्छी good feelings आए क्योंकि इस तरह का music सुनने से मस्तिष्क से एक तरल पदार्थ स्त्रावित होने से relaxation feel होता है और हमारा बिगड़ा हुआ मूड कंट्रोल होने लगता हैं।

Nature के करीब जाइए हरे घास पर बैठिए, natural water fall के नीचे दोनो हाथो को फैलाकर आंखे बंद कर खड़े हो जाइए और waterfall से गिरते पानी को शरीर, चेहरे से स्पर्श करते हुए आनंद लिजिए ये भी आपको मूड कंट्रोल के मदद मिल सकती हैं।

Aroma oils to control mood swings

लैवेंडर ऑयल 3 ड्रॉप्स

sandalwood oil 3 drops

bergamot oil 2 drops

clarysage oil 2drops

neroli oil 2 drops

ये सब oils को एक bath tub में पानी भर कर मिला लिजिए और पानी के साथ अच्छे से मिलान के बाद फिर इस bath tub में बैठ जाइए। बैठने के बाद आंख बंद कर तीन चार गहरी सांस अंदर लेकर गहरी सांस बाहर छोड़िए। अब शरीर के हर हिस्से पर ध्यान लगाते जाइए सबसे पहले पैर का अंगूठा right side फिर left side का अंगूठा और ऐसा नीचे से एक एक part पर ध्यान लगाते हुए forehead तक पहुंचे। ये सब आंखे बंद कर पानी के tab बैठे हुए ही करना है। पुरा होने के बाद आप खुद feel कर सकते है शरीर का एक एक हिस्सा relax तो हुआ ही है साथ ही आपका मूड भी पूरी तरह ठीक हो चुका है। आनंदित और प्रफुल्लित मन से आपको खुशी महसूस हो सकती हैं।

Forehead के centre पर third eye chakra पर अंगूठा से प्रेस करिए और खुदको ही message भेजिए कि मैं relax हू मेरा मूड बहुत अच्छा है। मै बहुत खुश हूं और मुझे किसी से कोई शिकायत नहीं है।

Conclusions

Mood swing से हमारी जीवन अस्त व्यस्त होता है और दिनचार्य बिगड़ जाती हैं। क्यों हम किसी को भी हमारे मूड़ का रिमोट कंट्रोल दूसरे के हाथ मे थमाते है। कोई हमारा weak points को दबाता है कुछ भी कहकर और हमारा मूड स्विंग हो जाता हैं। कोई situation हमारे oppose लगती हैं तो उसे हम face करने की क्षमता नहीं रख पाते तो क्यों हम एक कठपुतली बने। Mood control कर क्यों नहीं normal Life जिए।

जय श्री कृष्ण 🙏🙏🙏🙏

ॐ नमः शिवाय 🙏🙏🙏🙏

पढ़ने के लिए धन्यवाद

खुश रहिए मस्त रहिए

Free Chakras Test , Which Chakras Is Out Of Balance In Hindi

Swahaam Spirituality With Health

आप ने जो भी उत्तर चुना, उसके द्वारा कितने चक्र ब्लॉक है वह जानने के लिए होम पेज पर आइए, धन्यवाद्।

View original post

Allergy सही उपचार से ही मिलेगा आराम पढ़े With Spiritual Reasons And Ayurvedic Remedies

जब भी शरीर मे एलर्जी का problem होता तो अक्सर हर रोग के पीछे कुछ न कुछ भावनाएं जरुर होती हैं और ये भावनाएं और विचार मस्तिस्क मे continue non stop चक्रव्यूह की तरह गोल गोल घूमते रहते तो ये तरंग ये ऊर्जा blockage मे परिवर्तित होने से इनसान की रोग प्रतिकारक शक्ती भी कमजोर पड़ने लगती हैं। जिससे प्रदुषण या किसी भी कारण से श्वास प्रणाली पर effect पड़ने से व्यक्ति allergy जैसे रोग का शिकर बन सकता हैं।

एलर्जी एलर्जी

जहां तक मेरा अध्यात्मिक अनुभव है ये रोग विशुद्धि चक्र या throat chakra और मूलाधार चक्र या root chakra block होने से हो सकता हैं। चक्र का ब्लॉक होना भी कर्म पर निर्भर करता है इसमें खुदके स्वास्थ का ध्यान नहीं रख पाना भी और खुश नहीं कर पाना भी है।

धूल मिट्टी, प्रदुषण, कोई भी खाद्य पदार्थ, कोई रंग, कोई भी जीवाणु या बैक्टीरिया जैसे किसी भी चीज के संपर्क मे आने से ही हों सकता हैं कहने का तात्पर्य यही है जैसे जिसकी प्रतिकार शक्ती वैसे उसे बाहरी वस्तुएं प्रभावित कर सकती हैं।

एलर्जी के लक्षण सर्दी कफ, नाक बहना, सांस लेने में दिक्कत, skin पर लाल चकते जैसे होना या rashes, खुजली आना, सूजन ऐसे कई और भी लक्षण हो सकते है।

Allergy से बचाव के लिए क्या कर सकते है?

जिस चीज की allergy है उन सब चीजों के संपर्क में आने से बचे पर ऐसा कब तक करेंगे क्युकी allergy का तो किसी किसी को बहुत ज्यादा ही problem हो सकता हैं तो एक कोशिश ये भी करे emotionally खुदको clean करने की।

भावनाओ जो दबी हुई है उसे अपने मन से निकाल कर free करिए कैसे करना है यह मैंने दूसरे blogs में लिखा है। ( कहा भी ना जाए सहा भी ना जाए (क्रोध))।

साफ सफाई का भी विषेश ध्यान रखिए खुदके शरीर का भी और घर में जैसे बिस्तर, गालीचे, तकिए इत्यादि। गंदगी से भी मानसिक स्वास्थ्य पर असर पड़ता हैं और शारीरिक स्वास्थ भी बिगड़ता है। घर में जमी धूल मिट्टी के कण सांसों और स्किन द्वारा शरीर में प्रवेश कर जाते है।

जिस इनसान से आपको लग रहा दबना पड़ रहा ऐसा आपको लग रहा है यदि आप सच्चे हो तो बिना घबराए उन्हें प्रेम से अपनी बात समझाए माने तो ठीक नहीं तो universe से यह प्रार्थना कर सकते है कि मैने इस बंदे को माफ कर दिया है। अब इनकी पीड़ाओं से मुक्ति दे अब ये जो कुछ भी कहे इनके शब्द इन्हे ही लौटकर जाए। खुदसे कहिए मैने खुदको मुक्त कर दिया है और मैं खुले आकाश में एक पंछी की तरह पंख फैला कर उड़ रहा हूं।just imagine also and feel you are actually flying.

यह सब आपको एक जगह शांति से जमीन पर बैठना है क्योंकि धरती मां अपने अंदर सब समा लेती हैं बिना आसन या कुछ भी लिए direct जमीन पर। आंखे बंद करनी है फिर प्रार्थना करनी है और इसके पहले कोई breathing techniques भी करनी है। ( Breathing techniques for relaxation swahaam के session में ही सीखा सकते)

अपने घर को हवादार रखिए रोज ताजी हवाएं घर में प्रवेश होने दीजिए यानी रोज हर कमरे की खिड़कियों को खुला रखे। घर का ventilation system भी सुधरेगा और घर से negativity भी बाहर निकल सकती हैं।

stress management करे, खुदको depression में नहीं जानें दे क्युकी शरीर की जो सफेद कोशिकाएं है जो शरीर की रक्षा करती हैं कमजोर पड़ने से रोग तुरंत पकड़ सकता हैं।

अत्यधिक ठंड या गर्म वातावरण में या उच्च या निम्न तापमान में ना रहें और ना ही ठंडे, तीखे तले पदार्थो का सेवन करे और स्विमिंग पुल मे भी क्षमता अनुसार ही swim कर सकते है।

रोजाना तरल पदार्थ, पानी या गर्म चाय या पानी पिए।

भाप ले सकते है और सिकाई भी कर सकते है। यदि छाती में कफ या बलगम बन गया हो तो।

एलर्जी उपचार

साफ सफाई के लिए रोज स्वच्छ और एलर्जी से निजात पाने के लिए यह साबुन का भी इस्तेमाल कर सकते है।

skin allergy मे चंदन का लेप या एलो वेरा जेल भी लगा सकते है।

self healing कर सकते है आंखे बंद करके ॐ…. ॐ…. का उच्चारण कीजिए। बोलते हुए गले पर स्पर्श करते जाए, चेहरा पर ताकि positive energy से healing हो और पीड़ा से मुक्ति मिल सके।

Skin allergy में नारियल तेल भी लगा सकते है जहां पर लाल चकते हुए हैं वहा ताकि ठंडक महसूस हो।

Home Remedies

Home Remedies सिर्फ mild attack मे ही उपयोगी है यदि मरीज को severe attack’ है तो हॉस्पिटल में admit करना ही उचित है डॉक्टर के देखरेख में सही उपचार हेतु।

एक लहसुन की कली को छीलकर कर कूट लें फिर इसमें एक चम्मच शहद मिलाकर मरीज को दिन में दो बार दे सकते है गले में सूजन और संकुचित श्वसन नली के लिए।

10 तुलसी के पत्ते का जूस एक चम्मच शहद के साथ मिलाकर दिन में तीन बार ले सकते हैं।

प्याज का रस और शहद भी ऊपर बताए तरीके से लिया जा सकता हैं।

पिप्पल, आवला, और सौंठ तीनों को समान लेकर शहद या मिश्री मे गाय का घी मिलाकर ashtmetic mild attack के लिए अच्छा results देखने में आया है।

कफ मे पिपल को सेंधा नमक मिलाकर लेने से साथ मे अदरक का juice मिलाकर सात दिन तक लगातार पीने से राहत मिल सकती हैं।

Ayurvedic Remedies

Please note everyone

मैं यहां पर कुछ आयुर्वेदिक उपचार बता तो रही पर मेरी यहीं सलाह है कि आपके डॉक्टर को बताकर और डॉक्टर की सलाह से ही लिया जाए।

Vasa kantakari lehyam दो चम्मच गरम दूध के साथ

Dab Dama liquid dabur company का 6 से 15 ड्रॉप्स तक लिया जा सकता हैं पर यह मरीज की उम्र और मरीज की बीमारी की अवस्था के उपर निर्भर करता है कितना ड्रॉप्स तक ले सकते है।

नियमित रूप से मरीज को रोज चवनप्राश देना शुरू कर दीजिए यह एक विटामिन सी का एक अछा स्त्रोत भी है दूध के साथ रोग प्रतिकारक शक्ती बढ़ाने के लिए।

Agastya rasayan गले में congestion, नाक बह रही है या नाक बंद हैं या इस तरह की परेशानी उपर बताए प्रमाण मे वैसे ही ले सकते है।

क्या करना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए

सभी शीत पदार्थ जैसे ice creams, दही, कोल्ड ड्रिंक्स, अन्य ठंडे पेय पदार्थ या milkshake का सेवन पूर्णतः बंद कर दिया जाए।

मरीज को जिन चीजों से एलर्जी है वह सभी चीजे

यदि तबियत बिगड़ी हुई है तो ही दिन में सोये अन्यथा दोपहर को सोने की आदत त्याग दिया जाय।

उष्ण पदार्थ जैसे लहसुन, अजवाइन, हींग और गर्म पानी का सेवन cough, digestion improvement के लिए खाने में बढ़ा सकते है।

रोज स्नान भी गर्म पानी से करना चाहिए चाहे कोई भी मौसम क्यों न हों

ठंड के मौसम में खुदके शरीर को गर्म कपड़ों से ढककर बचाकर रखना चाहिए।

Conclusion

एलर्जी जैसी बीमारी कह सकते है पर उसका जुड़ाव कही ना कही भावना या insecurity या खुदको ही दबाने की भावना से भी हो सकती हैं जो कि subconscious mind में दबी रहती जो कि रोग के रुप मे बाहर विस्फोटित हो सकती हैं। साथ ही मेने अध्यात्मिक तरीके से भी खुदको कैसे बदला और बचाया जा सकता हैं बताया हैं। मैने पूरी कोशिश की हूं अच्छे से आप तक बात पहुंचे और समझे, आपको कैसे लगा जरुर comments करके बताइए।

हमेशा खुश रहिए और स्वस्थ रहिए

जय श्री कृष्ण राधे कृष्ण 🙏🙏🙏🙏

ॐ नमः शिवाय 🙏🙏🙏🙏

Rudraksh/ सौ मुसीबतों का एक उपाय हैं रूद्राक्ष एकदम सही और सटीक जानकारी

रूद्राक्ष साक्षात भगवान शिव का स्वरूप हैं रूद्राक्ष को माला या bracelet में शरीर पर धारण किया जाता हैं। रूद्राक्ष को धारण करने वाले व्यक्ति को हमेशा ही भगवान शिव के सानिध्य में सुरक्षित रहता है साथ ही इनका आत्मबल इतना प्रबल हो जाता हैं कि ये किसी भी मुसीबत में डरते हैं न ही घबराते बल्कि शांति और सोच विचार कर मार्ग निकाल ही लेते है। जय शिव शंकर 🙏🙏🙏🙏🙏

रूद्राक्ष के फायदे

रूद्राक्ष धारण करने वाले व्यक्ति को कोई भी रोग नहीं सताता और उसे भगवान शिव की ओर से निरोगी काया का आशीर्वाद प्राप्त हुआ रहता है। इसीलिए ऐसा व्यक्तियों का जीवन स्वस्थ और आनंदमय होकर गुजरता है।

रूद्राक्ष धारण करने वाले व्यक्ति दूसरो का सम्मान करते भी हैं और दूसरों से सम्मान पाते भी है। सहज ही लोग उनकी ओर आकर्षित हों जाते है क्योंकि रूद्राक्ष की पवित्रता धारण करने वाले को भी पवित्र और शुद्ध कर देती हैं। इनकी यहीं positivity लोगो को आकर्षित करती है।

हमारे हिंदू सनातन धर्म में ये मान्यता है कि रूद्राक्ष हम मानव जाति के लिए इस पृथ्वी पर एक अमूल्य उपहार है। भगवान शिव की ओर से और रूद्राक्ष सौभाग्य, समृद्धि, सफलता, वित्तीय लाभ मे उन्नत्ति तो करता ही है साथ ही बुरी शक्तियों से बचाव के लिए एक सुरक्षा कवच का काम करता है।

Scientist ने भी यह prove कर दिये हैं कि रूद्राक्ष केवल अध्यात्मिक उपयोग या अध्यात्मिक उन्नति के लिए नहीं बल्कि medicine के लिए भी उपयोगी है। Rudrash therapy से कई बीमारियो से निजात मिलती हैं तथा ये physically, emotionally, mentally हर तरह से balance भी करता है।

यदि रूद्राक्ष को विषेश विधि विधान से घरों में स्थापित किया जाए तो इसमें से निरंतर निकलने वाली ऊर्जा घर में प्रवाहित होने से यह वास्तु दोष, गृह दोषो एवम गृह क्लेश साथ ही नक्षत्र दोषों को भी दूर करने की क्षमता रखता है।

रूद्राक्ष therapy और healing powers के तरीके को दोनो को एक साथ जोड़कर उपयोग किया जाए तो किसी भी रोगी को रोग दूर किया जा सकता हैं। यह मानसिक तनाव को दूर कर सकता है और शारीरिक ऊर्जा को बढ़ाता जिससे साधक को नवजीवन की प्राप्ति हो सकती हैं। यह आत्मबल, बुद्धि बल को बढ़ाता है intution को strong भी बनाता है जिससे साधक का self confidence भी उच्च स्तरीय बन जाता हैं।

यह मस्तिस्क की तरंगों को और body की सभी nervous system को, glandular organs और सभी body systems को balance करता है जिसके कारण साधक को दिल और दिमाग़ में सुकून और शांति महसूस होती हैं। यह दिल में दबी हुई सभी नकरात्मक विचारो को निकाल दिया करता है जिससे साधक का दिल पवित्र निर्मल और कोमल हो सकता है। साधक के चरित्र और स्वाभाव में बदलाव आ सकता हैं साथ ही क्रोध का ज्वालामुखी उबलता रहता हों तो क्रोध भी शान्त हो सकता हैं।

रूद्राक्ष की माला से भविष्य की जानकारी भी प्राप्त की जा सकती हैं यह एक विधि हैं जो आप किसी योग्य जानकर गुरु से भी सिख सकते है। रूद्राक्ष में स्वयं ही इतनी ऊर्जा स्थापित होती हैं कि यह cosmo electro magnetic field and radiation का प्रवाह होने से यह कोई भी रोग से संबंधित या भविष्य हेतु जानकारी के लिए प्रश्नावली की जाती हैं तो यह pendulum की तरह गति पकड़ता हैं और साधक को उत्तर की प्राप्ति हो सकती हैं। पर इसके गति और दिशा निर्देश को समझना बहुत जरूरी है तभी सही निर्णय पर पहुंचा जा सकता है।

रुद्राक्ष के फायदे जानकर आपको कैसे लगा भला ऐसी जानकारी कहीं आपने पढ़ी भी है यह सब मेरी आध्यात्मिक राह पर चलते हुए जो अनुभव है वह मैने share किया है।

रूद्राक्ष और रूद्राक्ष

Faceless रूद्राक्ष सबसे powerful माना जाता हैं पर ये मिलना बहुत ही दुर्लभ हैं।

सिर्फ एक चतुर्मुख रूद्राक्ष यानी चारमुखी रूद्राक्ष और सिर्फ एक शमुख रूद्राक्ष यानी छः मुखी रुद्राक्ष को तांबे के तार से बांधकर लाल या काले धागे में पिरोकर विधिवत् जैसे मेने ऊपर बताया पहना जाय तो अध्यन के क्षेत्र मे, बुद्धि में वृध्दि कर तीव्रता बढ़ाता है साथ ही याददाश्त को तेज कर concentration level को भी बढ़ाता है।

बिच्छू या ऐसे जीव जंतु के काटने पर उसका जहर उतारने हेतु पंचमुखी रुद्राक्ष को नींबू के रस में पीसकर उसका लेप बनाकर डंक वाले स्थान पर लगाया जाता हैं तो दर्द में भी राहत मिल सकती हैं साथ ही धीरे धीरे जहर का प्रभाव भी कम हो सकता हैं।

जो व्यक्ति रूद्राक्ष को पानी में डुबोकर रखता है कम से कम बारह घंटे तो भी फिर इस जल को ग्रहण करता है तो उसे गंगा जल पीने के समान आत्मसंतुष्टि और पुण्य की प्राप्ति हो सकती हैं।

रूद्राक्ष धारण करने में कोई भी भेदभाव नहीं है ना ही जात पात, ना ही स्त्री पुरुष और ना ही उम्र , ना ही देश इसे कोई भी धारण कर सकता है और 40 दिन से लेकर 90 दिन तक रूद्राक्ष के positive results देखने को मिल सकते है।

रूद्राक्ष धारण करने के बाद इस बात का ध्यान रखें रूद्राक्ष माला को sex करने के वक्त या किसी की शव यात्रा या महिलाए माहवारी के वक्त ना पहने।

रूद्राक्ष आपके जीवन में आने वाली दुर्घटनाओं से आपकी रक्षा करता हैं और ऊपरी बाधाए, भूत प्रेत, काला जादू इत्यादि में आप को बचाने के लिए aura के चारो तरफ एक protection sheild का काम करता है। यह अकाल मृत्यु को प्राप्त होने नही देता।

रूद्राक्ष को दूध के साथ उबालने पर दूध एक medicine की तरह कार्य करता है एक रूद्राक्ष को 40 दिन तक ही इस्तेमाल किया जा सकता हैं औषधि के लिए फिर इसे दूसरे रुद्राक्ष से replace कर सकते है।

यदि रूद्राक्ष को ऐसे ही रखा हुआ रहता हैं बिना कोई मकसद के या कोई भी जब इसे use ही नहीं करता है तो यह अपनी शक्ती खो देता है। इसकी उर्जा पूर्णतः universe से कट जाती हैं यदि तीन साल तक कुछ भी मंत्रजप नहीं हुआ तो इसीलिए रुद्राक्ष लाकर जरुर उपयोग में लाए अन्यथा हानि आपकी ही है।

घर के पूजा स्थान में भगवान की तस्वीरों पर या देवी देवताओं की मूर्तियों पर रुद्राक्ष माला से सजाया जा सकता हैं इससे आपके घर मे भी cosmic energy प्रवाहित होती रहेंगी हमेशा और रूद्राक्ष की ऊर्जा भी बरकरार रहेगी।

देखने में तो यहीं आता हैं कि कोई भी रुद्राक्ष एक जैसे similar दिखते ही नहीं है बल्कि सबके shape, size, colours सबकुछ अलग है। रूद्राक्ष धारण करने से अध्यात्मिक उन्नति तो होती ही है साथ कुण्डलिनी जागृत करने में भी आसानी हो सकती हैं।

रुद्राक्ष की माला पहनने के बाद माला की साफ सफाई का भी ध्यान रखना चाहिए क्योंकि रोज पहनने से इसपर पसीना मैल और बाहर की धूल मिट्टी इत्यादि भी चिपक जाती हैं जिससे रुद्राक्ष के छिद्र बंद होने से यूनिवर्स से इसका connection ठीक से नहीं जुड़ पाता और हमे जितनी positive energy मिलनी चाहिए वह नहीं मिल पाती। ज्यादा नहीं कम से कम हर छह माह में रीठा या टूथपेस्ट से ब्रश लगाकर आसानी से साफ किया जा सकता है।

रुद्राक्ष और रूद्राक्ष में रूद्राक्ष की जानकारी कैसी लगी जरुर comments करके बताए और भी मंत्र और अध्यात्म की जानकारी इसी website पर और भी blogs है जो कि आपके जीवन बदलने की क्षमता रखते वह भी पढ़िए।

खुश रहिए मस्त रहिए भगवान शिव के सानिध्य में

ॐ नमः शिवाय🙏🙏🙏🙏

क्रोध क्यों आता है? ना सहा जाए ना कहा जाए का अचूक उपाय How To Control Anger 🤬

क्रोध और अहंकार एक सिक्के के दो पहलू है । क्रोध, अहंकार, भय ये सब एक ही समूह के और एक दूसरे से जुड़े हुए हैं। तो आइए इसी विषय पर चर्चा करेंगे। मनुष्य को क्रोध क्यों आता है?

क्या क्रोध मन में छिपा हुआ ज्वालामुखी हैं जो अंदर ही अंदर सुलगता रहता है और बीच बीच में क्रोध के रूप में आप उस ज्वालामुखी का गरम लावा दूसरो पर उंडेलते रहते हो।

क्रोध ही तनाव को जन्म देता है और धीरे धीरे ये घाव भीतर ही भीतर इतना विराट स्वरूप ले लेता है कि कहीं ना कहीं किसी भी रूप में बाहर आ सकता है। जब आप तनाव ग्रस्त जीवन जीना नहीं चाहते हो तो सबसे पहले खुदका आत्मनिरीक्षण कीजिए कही आप क्रोध के शिकार तो नहीं? यहां तक कि ये अंदर छिपाकर रखा हुआ क्रोध अपराध के रास्ते पर भी ले जा सकता है।

इन्सान अपने मन में छिपे हुए इस खुन्नस को किसी कमजोर लाचार मासूमों पर भी निकाल सकता है। माना कि कोई भी इन्सन बाहर लड़ झगड़ कर या दूसरे पर गुस्सा निकालकर खुद की क्रोध की अग्नि को शांत कर देता है।

उसकी आत्मसंतुष्टि की पुष्टि भी हो जाती हैं खुद का agression निकालकर। पर कई परिस्थितियों में क्या कई लोगों के साथ ऐसा भी हो सकता है कि वे अपना क्रोध भीतर ही भीतर दबा कर रखते हैं।

जो कि कोई खतरनाक मोड़ पर लाकर खड़ा कर सकता है। इस position में जहा सहा ना जाए और कहा भी ना ऐसे situation को भी handle करने आना चाहिए।

कुछ उपाय मै आपको नीचे सबसे आखरी मे बता रही हूं उसके पहले क्रोध के बारे और कुछ जानते हैं।

क्रोध उपचार

💖💖 एक मीठी सी प्यारी बात❣️❣️

यदि हमे कोई फल का रस पीने की चाहत तो हम उस फल को निचोड़ कर रस निकालगे

तो जैसा फल होगा वैसा उसका रस निकालेंगे और उस रस का आनंद लें पाएंगे

जो अंदर हैं वहीं बाहर की ओर निकेलेंगा जो कि यही सत्य और तथ्य हम सब पर लागू होंगा

यदि कोई कटु वचन, अभद्र व्यवहार, या अपमानित करने की आपसे चेष्टा करता है तो आप दोगुना आवेग से उस व्यक्ती पर हमला बोल देते हो।

क्योंकि जिसमे अंदर जो होगा वहीं वह बाहर उगलेगा सामने वाले में तो हैं ही ये उसका व्यवहार बता रहा है क्या आप में भी वहीं हैं? आप ये सवाल खुद से करिए खुद जवाब ढूंढिए। आपका सत्य आपके सामने होगा।

जब आपके जीवन का अभिप्राय प्रेम आनंद और सुकन है तो अपने भीतर इसमें डूब जाइए और दूसरा कितना भी अभद्रता दिखाए अपने संतुलन को बनाए रखे और वहीं ऊर्जा प्रेम भावना की उसके सामने प्रदर्शित करे चाहे वह accept करे या ना करे ये उसका matter है।

बस आप इतना देखिए कि आप को भीतर से बदलाव लाना है खुदमे, देखना आपकी बाहर की दुनियां स्वयं बदल जायेगी।

स्वयं की स्वीकृति स्वयं के लिए क्रोधी इन्सान को अंतर्मन से शांत कर देती हैं।

ये तो मैने आपको क्रोध को काबू करने का उपाय बताया कहने को तो बहुत सीधा सरल भी है ना चाहो तो कठिन इसलिए की आपके अंदर अभी भी अहंकार का जेहरीला बीज पड़ा हुआ हैं ।

क्रोध क्यों आता है?

क्रोध इस सम्पूर्ण विश्व में किसे नहीं आता पर क्रोध आना या दूसरों पर क्रोधित होना ये तो बहुत ही आसान हैं पर क्रोध आने पर भी क्रोध पर काबू रखकर सामान्य व्यवहार करे वही इस जीवन की जंग में विजयी हो सकता है।

क्रोध का दूसरा चेहरा भय भी है इन्सान अंदर ही अंदर किसी कारण भयभीत रहता है इसीलिए वह अपने भय को छिपाने के लिए क्रोधित होता रहता है ताकि किसी ओर को ये अभास ना हो कि वह सच में एक डरपोक इन्सान है।

कहीं ना कहीं भय हिंसा का रूप ले ही लेती हैं।

क्रोध का सगा भाई अहंकार भी है। अहंकारी व्यक्ती को किसी के आगे झुकना बिलकुल गवारा नहीं। ऐसे लोगों को लगता हैं कि दुनियां में सिर्फ वे ही लोग सही है बाकी सब उनकी नजरों में तुच्छ होते हैं।

वे जो भी निर्णय ले उसका सबको पालन करना ही है चाहे वह किसी को पसंद हो या नहीं। ऐसे लोगों में ईर्ष्या की भावना भी मन के किसी कोने में पटाखे की तरह सुलगती रहती हैं। ये ईर्ष्या की भावना को अपने अहंकार की पुष्टि के लिए कब किस पर bomb blast करेंगे इनका कोई भरोसा नहीं है।

मैने जो आपको ऊपर बताया यदि आप ऐसे लोगों पर आजमा सकते है तो बेहतर रहेगा नहीं तो ऐसे लोग से तो दो हाथ की दूरी बनाए रखने मे भलाई है। ऐसे लोगों को दूर से ही राम राम 🙏

क्रोध वह अग्नि जिसके भीतर जलती है वह तो सुलगता ही है साथ ही इसकी लपटे दूसरों को भी जलाकर खाक कर देती है। क्रोध में इन्सान खुद पर से काबू खो बैठता है ना चाहते हुए भी ऐसी गलती कर बैठता कि क्रोध शांत होने के बाद समझ आने पर बहुत देर हो चुकी होती तो सिवाय पछतावे कुछ हाथ नहीं आता।

क्रोध आने पर क्या करें

  1. क्रोध आने पर जब आप प्रत्यक्ष प्रकट भी नहीं कर पा रहे और भीतर आप सहन भी नहीं कर पा रहे वह कहीं न कहीं आपके दिल में त्रिशूल की भांति चुभे जा रहा हैं ना सहा जाए ना कहा जाए।
  2. इस प्रकार की मन: स्थिति का सामना कर रहे हो तो आपको एक बहुत ही सरल उपाय बता रहीं हूं।
  3. बाथरूम में जाकर shower के नीचे ठंडा पानी के साथ पानी के नीचे खड़े हो जाइए। जैसी ही पानी की बौछार शरीर को छूएंगी तो जिसके लिए मन में क्रोध दबा रखा उसका नाम लेकर उसको जो कहना चाहते और नाही कह सकते सामने वह सब कह दीजिए ।
  4. इस तरह निकाल लीजिए सारी मन की भड़ास और यदि रोने का मन करे तो रो भी लीजिए फिर देखिए आपको कैसे दिल और दिमाग में शांति का अनुभव होता है।
  5. आप ये नुस्खा जरुर आजमाइए फिर comments करके बताइए कैसे लगा?
  6. दूसरा नुस्खा सुनिए एक plain paper लीजिए उसपर जो बंदे पर क्रोधित हो उसका नाम लिखना है। हां तो अब उस plain paper के 25 छोटे छोटे peices कर लीजिए।
  7. हर peice पर उस बंदे का नाम लिखिए। इतना कर लिया अब एक कांच का bowl लीजिए उसमे ये सब लिखे हुए नाम की पर्ची डालिए।
  8. अब एक माचिस की जलती हुई तीली लेकर सबको एक साथ जला दीजिए। अब उस राख को लेकर किसी खुली खिड़की के सामने खड़े हो जाइए जहां से खुला आसमान दिखता हो।
  9. बस अब आखरी एक काम करना उसको चार बार खुले आसमान की ओर मुख करके फुक मारकर उड़ना है। उड़ाते वक्त universe से यही प्राथना करनी है कि मुझे इस व्यक्ती विशेष के जुल्म या त्रासदी से मुक्ति चाहिए वह मुझे प्राप्ति हो चुकी हैं।

कभी भी आंसुओ को रोकना नहीं देना चाहिए आंसुओ के साथ हमारा दुःख, गम क्रोध सबकुछ बह जाता हैं और भी detail इस video में जरुर देखिए।

Conclusion

क्रोध क्या है? इसका उद्गम कहा से होता है। अपने आपको कैसा क्रोध से बचाया जा सकता यहां तक खुदको कैसे बदला जा सकता है। कहा ना जाए सहा ना जाए उसका तक उपाय ऐसा blog शायद ही किसने इतना detail लिखा हों। आपको कैसा लगा जरुर comments करके बताइए।

जय श्री कृष्णा 🙏

बहुत बहुत 🙏धन्यवाद

Best Lord Krishna Quotes In Hindi With Images श्री कृष्ण जी के सुविचार Motivational

Details of Shri Krishna

श्री कृष्ण के विचार छोटे छोटे

पुरषार्थ और भाग्य दोनो साथ चलते हैं सारी दुनिया में ये अटल सत्य है कि जो व्यक्ती पुरषार्थ या मेहनत करते है उन्हें उनका फल निश्चित ही मिलता है।

पर कभी कभी किसी के साथ ऐसा भी हो सकता है कि लाख मेहनत के बावजूद कड़ी मेहनत का उचित मूल्य नहीं मिल पाता ऐसे अवस्था में मजबूरीवश इन्सान अपने भाग्य को कोसने लगता हैं और इसे ही अपना दुर्भाग्य मान बैठता है।

पर आप एक आध्यात्मिक व्यक्ती की दृष्टि से देखेंगे तो वह भी कृष्ण की भक्ति में आस्था रखनेवाले वे ना भाग्य मानते ना दुर्भाग्य क्योंकि कृष्णभक्त अच्छे से जानते है की जीवन में जो कुछ हो रहा अच्छा ही हो रहा है श्रीकृष्ण की इच्छा से ही हो रहा है।

उन्हे ये संपूर्ण विश्वास है कि उनसे बेहतर उनका हित किसमे है ये श्रीकृष्ण जानते हैं । भक्त ये भी अच्छे से जानते है और मानते हैं कि जीवन में दुःख भी आ रहे हैं तो ये भी श्रीकृष्ण की ही लीला है और श्रीकृष्ण उन्हें दुखों को सहन करने और सामना करने की शक्ति भी श्रीकृष्ण ही हमे देंगे इसीलिए ये बात भी समझ लीजिए आप👇

श्री कृष्ण कहते हैं कि मानव जन्म इसलिए हुआ हैं ताकि हमारे जो जन्मों के कर्म इकट्ठा कर रखे हैं वह समाप्त हो सके और हमे इस जन्म मरण के चक्रव्यूह से मुक्ति मिल सके। हर आत्मा पवित्र और शुद्ध होकर मोक्ष मार्ग पर चल सके। इस पृथ्वी पर हर soul का जन्म लेने का यही उद्देश्य है ।

पृथ्वी पर हर soul को एक शरीर की प्राप्ति होती है और वह मनुष्य योनि में जन्म लेकर कोई ना कोई उद्देश्य की पूर्ति के लिए ही जन्म लेता है। उद्देश्य हेतु हर एक को जीवन में संघर्ष भी करना पड़ता है।

संघर्ष ही जीवन यह बात भी आप अच्छे से समझते भी होंगे। जिसने जीवन में संघर्ष ही नहीं किया तो उसने क्या पाया फिर? श्री कृष्ण की ये बात अच्छे से समझ लीजिए आप भी 👇

श्री कृष्ण सुविचार ज्ञान की बात

भाग्य और सौभाग्य यह एक सामान्य व्यक्ती की सोच हैं क्योंकि कृष्ण भक्ति में डूबा हुआ इन्सान तो कर्म करने में भी कृष्ण की आराधना समझता है। भाग्यवान व्यक्ती तो अपने किए हुए अच्छे कर्म के बदले में सुख का आनंद लेता है।

कृष्ण भक्त का तो श्री कृष्ण की कृपा से अपने पूर्व जन्म में किए हुए कर्मो को भी पूरा समाप्त कर और नए पवित्र कर्मो का निर्माण कर श्रीकृष्ण के शरण में जाकर खुद को सुरक्षित समझता है।

सलिए श्री कृष्ण के शरणागत होना ये भी एक सौभाग्य की बात है। आप भी श्री कृष्ण के शरण में जाना चाहते हो तो ये आध्यात्मिक गूढ़ की बात समझते होंगे👇

कर्म क्या हैं? क्या कर्म की बात जो बड़े बड़े आध्यात्मिक बाते करने वाले लोग कर्म की परिभाषा को कर्म कहते हैं। क्या आप जानते हैं कि हम दिमाग में कुछ सोचते हैं वह भी एक कर्म हैं?

बल्कि मैं तो कहूंगी कोई भी अच्छे और बुरे कर्म की शुरुआत दिमाग से ही होती हैं। कोई भी अच्छे या बुरे कर्म की उपज हमारा यह दिमाग ही है! क्यों हैं सच ये बात? आप भी मानते हैं कि नहीं? सुनिए श्री कृष्ण भी क्या कहते है 👇

Conclusion

श्री कृष्ण भगवान की यह Best Lord Krishna Quotes in Hindi with images श्री कृष्ण जी के सुविचार आपको सच्ची लगे और पसंद भी आई होंगी। एक सच्चे भक्त की सच्ची आराधना पर वे प्रसन्न होकर हमेशा साथ रहते और आजीवन भक्त को मार्गदर्शन देते रहते । एक साधारण हम जैसी जीवात्मा को और क्या चाहिए।

आपको कैसे लगा pls जरूर से comments कर बताए।

जय श्री कृष्ना 🙏🙏🙏

अच्छे और बुरे कर्म कौन कौन से होते हैं? कर्म पर सुविचार और सिद्धांत कितना सच? What Are Good And Bad Deeds? Motivational

कर्म भी ईश्वर की तरह ही एक आस्था का विषय है। कई लोग इश्वर पर विश्वास करते हैं हालांकि ईश्वर को प्रत्यक्ष रूप से देखा नहीं है फिर भी ये एक अटूट अटल विश्वास है कि कही न कही एक अदृश्य शक्ति है जो हमेशा हमारे साथ है। हमे समय समय पर सही मार्ग भी दिखाती है। हमे दुःख दर्द सहन करने की हिम्मत प्रदान करती हैं। हर इंसान के हृदय में ईश्वर कई अलग अलग रूप मे बसा हुआ है। यहीं विश्वास और यहीं शक्ति जीवन जीने का हौसला हमे देती हैं। इश्वर की बनाई इस दुनिया हम सब कठपुतली की तरह अपना अपना role play कर रहे है। अब इस दुनिया में कौन कैसा है किसके मन में क्या छल कपट छिपा है, कौन कैसा बाहर से बहुत अच्छा पेश आता है और आंतरिक मन मे घृणा छिपा रखी है। ये सब आजकल की दिखावटी दुनियां में समझ पाना मुश्किल है।

कर्म और धर्म

आपने इस दुनियां में ईमानदार और बेइमान दोनो ही तरह के लोग देखें होंगे। पर कई बार ये बात जरुर नोटिस करने में आता है कि बेइमान और बुरे लोग सच्चे और ईमानदार लोगों से कई गुना सुखी देखें जा सकते है। आखिर क्यों? इसका कारण क्या हैं?

जीवन के फलसफे को आंका जाए तो अच्छा इंसान कौन हैं और कौन बुरा इंसान यह कैसे किसकी तुलना की जा सकती हैं।

साहब ये तो कलयुग का समय है इस समय कोई सच्चा ईमानदार भी चले तो भी लोग उसे चने की तरह भुन कर खा लेंगे, उस सच्चे इंसान का हर तरह से उपयोग और दुरुपयोग किया जाता है।

ये तुलना करना भी नामुमकिन है क्योंकि जरूरी नहीं जो इंसान उपर से दिखाई दे वह भीतर से कैसा हो? 🙂 So funny to judge and not so easy also!!

सफलता के मार्ग पर चलते हुए जरूरी नहीं हम अच्छे हैं तो इसका मतलब तो कतई ये नहीं है कि हमे हर कोई अच्छा ही मिले हमारी तरह,😌 कई बार हम दूसरों को परेशान या अपशब्द नहीं कहना चाहते पर कई बार स्वयं कि या परिवार की रक्षा करने हेतु मजबूरीवश सामनेवाले की ही भाषा में जवाब देना पड़ता है।

कहने का तात्पर्य यही है कि बुराई के साथ बुरा भी बनना पड़ता हैं तो ऐसे इंसान अपने अपने अक्स पर बनी अच्छाई की छवि कैसे कायम रख सकता है?

ऐसे ही दोराहे पर आकर इंसान confuse हो जाता हैं कि जीवन में एक अच्छा इंसान बने या सफल इंसान। आइए और गहराई में आपसे बाते करते हैं और समझते हैं इस तथ्य को 🙏

  1. क्या खुद के लिए अच्छा सोचना और करना बुरी बात है? हर इंसान को अधिकार है वह स्वयं के परिवार की ओर स्वयं की चिंता भी करे और भलाई का भी सोचे। यही सोचकर कोई किसी का काम करने के लिए मना कर दे या परिवार के हित के लिए कोई किसी तरह से रिश्ता नाता तोड देने में बुराई क्या हैं?
  2. कोई रिश्तेदार परिवार के सदस्य को तंग परेशान किए जा रहा है समझ ही नहीं रहा लाख समझाने पर भी तो ऐसे रिश्तों का बोझ दुनियादारी का नाम देकर उठाने से बेहतर उसे हमेशा के लिए तोड़ दिया जाए और सुकून की जिंदगी परिवार के साथ जी जाए।
  3. कई बार हम दुनियादरी रिश्तेनाते में बंधे रहते हैं और हमारी भारतीय संस्कृति में यहीं बचपन से सिखाया जाता हैं कि बड़ो को पलट कर जवाब नहीं दिया जाता हैं। बड़े जो भी कहते है उनकी आज्ञा की अवेहलना बिलकुल ना की जाए।
  4. जी बिलकुल सही आप सुन रहे हैं हमारी भारतीय संस्कृति सच में इतनी महान है। पर ये सब पहले सच में होता भी था बड़े बुजुर्ग भी आदर्शवादी और सम्मान के लायक भी थे और सबसे बड़ी बात विश्वास के लायक भी थे अगर आज के युग से पहले का युग compare किया जाए तो सत्यवादी आदर्शवादीता में। मैं यह नहीं कहती हर कोई पर कही कही बड़े कहने वाले लोगों मे नियत और फितरत दोनो ही खराब हो चुकी है।
  5. जो दुनियां हो रहा है वहीं हम बात कर रहे हैं parents भी बेटो में भेदभाव करने लग गए हैं जो बेटा अच्छा कमाता अच्छी status है उसकी तरफ ही लुड़क जाते हैं उसकी तारीफे करते हैं जो कम कमाता बेटा उसकी बुराई ही दिखाई देती है। बड़े घर के ही इंसान कही कही news में आप के भी पड़ने मे आया होगा वे अपनी काम वासना घर के छोटे बच्चे मासूमों से अपनी भूख मिटाते है ऐसे में मासूम बच्चे कही भी दुनियां मे सुरक्षित नहीं रह सकते।
  6. ऐसे जीवन में कई जटिल परिस्थितियों में पलट कर जवाब देना या विरोध प्रदर्शन करना भी जरूरी है यदि नहीं react किया तो घरवाले ही हावी हो जाते है। शिकार और शिकारी का खेल कायम रहता है इसमें शिकार करने वालो का तो कुछ नहीं बिगड़ता पर बेचारा जो शिकार हुआ उसकी तो जिंदगी उध्वस्त हो जाती हैं।

. इस दुनिया में कोई भावनाओ से लुटता है तो कहीं धन दौलत से । कोई नाचदीकी जान पहचान के या नाते रिश्तेदार कहे जाने वाले लोग cheat करते धोकेघाड़ी से पैसे लुटते है ।

मेहनत कोई करता है जिंदगी में और ऐश कोई करता है। इसके कई उदहारण आस पास देखे जा सकते हैं ऐसे में अच्छे कर्म और बुरे कर्म कौन से है कैसे पहचाने। जिसकी मेहनत की कमाई लूट रही हैं जो बेचारा मेहनत करके भी कंगाल हुए जा रहा है वह तो विरोध करेगें ।

इन परिस्थिति में तो ईट का जवाब पत्थर से देना क्या बुरी बात है ?

धोकाघड़ी का एहसास दिलवाकर ऐसे cheater को जिंदगी से हटाना जरूरी है। यहां भी इन्सान खुदको और खुदके परिवार को बचा रहा तो इसमें वह बुरा कैसे हुआ?

4. कोइ साधु संत का वेश धारण किया हुआ हैं गले में हाथो में रुद्राक्ष की माला लिए जप किया करते हैं। मुख ईश्वर की बातों और ज्ञान का प्रचार कर रहा है।

खुद को ईश्वर का सेवक साबित कर रहे है तो ऐसे लोग पर मासूम ईश्वर पर आस्था रखनेवाले भक्तलोग तो विश्वास करेंगे ही। पर परेशानी तो तब आती हैं जब इन ढोंगी बाबाओं की सच्चाई सामने आती हैं और इनके कर्मकांडो का भेद सारी दुनियां के सामने खुलता है।

ये लोग धनदौलत और emotionally हर तरह से लूटने वाले लुटेरे है। अब ऐसे पापी और पाखंडियों को क्या कहेंगे जो पाप करने के ईश्वर को भी इस्तमाल करते हैं। अब अच्छे कर्म और बुरे कर्म की क्या परिभाषा हो सकती है?

Conclusion

आज के युग में यह कह पाना संभव नहीं है कि कौन बुरे कर्म कर रहा है कौन अच्छे क्योंकि ईश्वर की बनाई इस दुनियां में सबको अपने कर्म अनुसार फल भोगना ही पड़ता है।

कोइ भी कर्म आप दुनियां से छिप कर करिए बल्कि मैं तो कहती हूं आप उसमे सफल भी हो चुके पर ईश्वर की नजर हमारे ऊपर लगातार लगी हुई है हर जीवात्मा को उसके कर्म के फल भोगने ही पड़ते हैं इसका कोई shortcut नही है।😍🤩

कर्म फल
%d bloggers like this: